संपत्ति बंटवारे के लिए लीगल नोटिस कैसे भेजें?

भारत देश में पुराने समय से ही लोग संयुक्त परिवार के रूप में अपना जीवन यापन कर रहे हैं। और संयुक्त परिवार का उदाहरण आपको ज्यादातर गांव के क्षेत्र में देखने को मिलेगा। क्योंकि भारतीय संस्कृति कुछ जीवित रखने में सबसे ज्यादा हाथ ग्रामीण क्षेत्र के लोगों का ही है।

ऐसे संयुक्त परिवार में संपत्ति या फिर वसीयत पूर्वज के हाथ में ही होती है। यदि किसी स्थिति में पूर्वज की मृत्यु हो जाती है। तो ऐसे में पूर्वजों के द्वारा छोड़ी गई वसीयत या फिर संपत्ति पर परिवार के सभी लोगों का अधिकार होता है।

ऐसे में यदि वह अपने-अपने अधिकार को लेना चाहें, तो ऐसे में उन्हें या तो मिलजुल कर उस वसीयत का बटवारा करना होता है। और यदि सर्व सहमति से बंटवारा नहीं होता है। तो ऐसी स्थिति कोर्ट के माध्यम से लीगल नोटिस भिजवाकर भी इसका बंटवारा कर सकते हैं।

तो चलिए जानते हैं- संपत्ति विभाजन में लीगल नोटिस का क्या कार्य होता है? Sampatti vibhajan me legal notice kya hota hai? संपत्ति विभाजन में Legal notice की आवश्यकता क्यों होती है? इन सभी तथ्यों के बारे में आज किस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।

संपत्ति विभाजन में लीगल नोटिस की आवश्यकता क्यों होती है?

जब कभी पूर्वज उनकी पुरानी संपत्ति का बटवारा करें बिना ही स्वर्ग सिधार जाते हैं। तो ऐसे में उनके बाद उनके जो भी उत्तराधिकारी या कोई संयुक्त परिवार होता है। तो ऐसे में पैतृक संपत्ति पर उस पूरे परिवार का अधिकार होता है। जो कि उस संपत्ति से अपना-अपना अधिकार ले सकते हैं।

संपत्ति बंटवारे के लिए लीगल नोटिस कैसे भेजें

परिवार में प्रत्येक व्यक्ति को अपना-अपना अधिकार लेने के लिए या तो संयुक्त बातचीत से हल निकालना होता है। और यदि ऐसे में कोई भी पक्ष बंटवारे को लेकर बात करना नहीं चाहता है। तो ऐसे में दूसरे पक्ष को कानून के माध्यम से लीगल नोटिस भेज कर उस जमीन का बटवारा करना के लिए संपत्ति विभाजन लीगल नोटिस की आवश्यकता पड़ती है।

संपत्ति विभाजन में लीगल नोटिस क्या है?

पूर्वजों के द्वारा छोड़ी गई संपत्ति या फिर वसीयत जिसका बटवारा उनके जीवित रहते वक्त ना किया गया हो, तो उस संपत्ति या फिर वसीयत के बंटवारे के लिए कानून द्वारा भेजे जाने वाले नोटिस को लीगल नोटिस कहते हैं। इस लीगल नोटिस को पूर्वजों की वसीयत को उनके उत्तराधिकारियों में विभाजित करने के लिए भेजा जाता है। जिस नोटिस को संपत्ति विभाजन में उपयोग होने वाली लीगल नोटिस कहते हैं।

वसीयत के बंटवारे में कानूनी नोटिस भेजने के लिए क्या शामिल होना चाहिए?

वसीयत के बंटवारे के लिए भेजे जाने वाले लीगल नोटिस में कुछ चीजों का होना आवश्यक है। जैसे-

  • कानूनी नोटिस को वकील के अनुसार तैयार करवा कर ही भेजना चाहिए।
  • इस नोटिस में यह भी उल्लेख करना चाहिए। कि नोटिस को किस तारीख में बनवाया गया है? तथा किसके द्वारा बनवाया गया है? और जिस भी व्यक्ति के द्वारा बनाया गया है। उसका नाम पता तथा संपर्क से संबंधित सभी जानकारी होनी चाहिए।
  • इस प्रकार के कानूनी नोटिस को भेजना वाले वकील तथा उसका पता भी होना चाहिए।
  • जिस वसीयत या संपत्ति के लिए नोटिस जारी किया जाना है उसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।
  • नोटिस में यह भी उल्लेख करना चाहिए थी। नोटिस की जवाबदारी की समय सीमा तथा उसके किन अधिकारों का उल्लंघन के लिए यह नोटिस जारी किया है। यह सब जानकारी उसे नोटिस में होनी चाहिए।
  • नोटिस पर वकील तथा जो व्यक्ति उस नोटिस को जारी करा रहा है उसके सिग्नेचर होने चाहिए।

लीगल नोटिस के लिए आवश्यक दस्तावेज | Documents required for legal notice

लीगल नोटिस जारी करने के लिए उपयोग होने वाले जरूरी दस्तावेज कुछ इस प्रकार है-

  • उत्तराधिकारी का पहचान पत्र।
  • संपत्ति की सभी जानकारी की प्रतिलिपि।
  • संपत्ति का मूल्यांकन का विवरण।
  • उत्तराधिकारी का जन्म प्रमाण पत्र।
  • उत्तराधिकारी का निवास प्रमाण।
  • मृत मलिक का मृत्यु प्रमाण पत्र।
  • मृतक का निवास प्रमाण पत्र।

संपत्ति विभाजन के मामलों में नोटिस भेजने की प्रक्रिया क्या है?

यदि आप इस प्रकार के मामलों में दूसरे पक्ष को लीगल नोटिस भेजना चाहते हैं। तो ऊपर गए बताए गए तथ्यों के माध्यम से एक लीगल नोटिस तैयार कर सकते हैं। लेकिन समान्यता लीगल नोटिस भेजने की कोई लिखित प्रक्रिया नहीं है, जिसके माध्यम से आप किसी भी व्यक्ति को लीगल नोटिस भेज सके।

लेकिन ऊपर बताए गए तथ्यों के आधार पर वकील के माध्यम से आप एक लीगल नोटिस तैयार कर सकते हैं। और नोटिस में बताई गई सभी चीजों को उल्लेख करके वकील के माध्यम से उस नोटिस को सामने वाले पक्ष के लिए प्रेषित कर सकते हैं।

यदि किसी स्थिति में आपके द्वारा भेजे गए नोटिस का जवाब दूसरे पक्ष के ओर से नहीं आता है। तो ऐसी स्थिति में आप न्यायालय के माध्यम से मुकदमा दर्ज कर सकते है। जिसमें संपत्ति का सारा विवरण देकर और उसे लीगल नोटिस से संबंधित जानकारी न्यायालय को उपलब्ध करा कर दूसरे पक्ष पर एक मुकदमा दायर कर सकते हैं।

जिसके आधार पर संपत्ति विभाजन की आगे की कार्रवाई न्यायालय के द्वारा दिए गए संकेत के आधार पर होगी। इस प्रकार आप संपत्ति विभाजन के लिए लीगल नोटिस भेज कार्रवाई कर सकते हैं।

Legal Notice Related FAQ

संपत्ति बंटवारे के लिए लीगल नोटिस किसके माध्यम से जारी होता है?

इस प्रकार के मामलों में जब भी हमें लीगल नोटिस की आवश्यकता होती है। तो सबसे पहले हमें किसी वकील के माध्यम से इस प्रकार के नोटिस या फिर ड्राफ्ट को बनवाना होता है। जो कि आगे की कार्यवाही में उपयोग होता है।

पूर्वजों के द्वारा छोड़ी गई वसीयत पर किसका अधिकार होता है?

यदि कोई एक संयुक्त परिवार है। और उसमें पूर्वज के मृत्यु के पश्चात उस परिवार के सभी सदस्यों का पूरा अधिकार होता है। अतः इस प्रकार के संपत्ति या फिर वसीयत में पूर्वजों के उत्तराधिकारी अर्थात उस परिवार के सदस्य का अधिकार होता है।

लीगल नोटिस का जवाब समय पर न मिलने के कार्रवाई की जाती है?

यदि आपके द्वारा भेजे गए लीगल नोटिस का जवाब दी गई समय सीमा के अनुसार नहीं आता है। तो ऐसी स्थिति में आप सामने वाले पक्ष पर मुकदमा कर उस प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकते हैं। अर्थात नोटिस का जवाब न मिलने पर मुकदमा ही एकमात्र तरीका होता है।

संपत्ति विभाजन के लिए लीगल नोटिस की प्रक्रिया क्या है?

संपत्ति विभाजन के लिए लीगल नोटिस की प्रक्रिया इस आर्टिकल के माध्यम से ऊपर के सेक्शन में बताई है। जिससे पढ़ कर आप लीगल ने नोटिस भेजने की पूरी प्रक्रिया के बारे में जान सकते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको संपत्ति विभाजन में भेजे जाने वाले लीगल नोटिस के बारे में बताया। कि यदि पूर्वजों के द्वारा छोड़ी गई जमीन में संयुक्त परिवार का अधिकार हो, तो ऐसे में हम अपने अधिकार को लेने के लिए दूसरे पक्ष को नोटिस कैसे भेज सकते हैं?

संपत्ति विभाजन में लीगल नोटिस की आवश्यकता क्यों होती है ? तथा इस प्रकार के नोटिस जारी करने में किन-किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है? इन सब से संबंधित महत्वपूर्ण तत्वों के बारे में इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आज आपको बताया। संपत्ति विभाजन के मामलों में नोटिस भेजने की प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी हमने आपको प्रदान कराई। आशा करते हैं इस आर्टिकल में बताई गई जानकारी आपको पसंद आई होगी और पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें।

Leave a Comment