Mahatma Gandhi Biography In Hindi – महात्मा गांधी की जीवनी

स्वागत है आप सभी का हमारे आज के इस आर्टिकल मे और आज हम आपको बताने वाले Mahatma Gandhi Biography In Hindi मे और इसके अंदर हम लोग आपको सभी तरह के सवालो Mahatma Gandhi Biography In Hindi, Mahatma Gandhi In Hindi, Mahatma Gandhi का जीवन परिचय, महात्मा गांधी की कहानी आदि सभी सवालो के जवाब हम आपको इस आर्टिकल Mahatma Gandhi Biography In Hindi मे देने वाले हैं।

अगर आप को एजुकेशन से संबंधित जानकारी पढ़ना अच्छा लगता है तो आप लोग हमारे इस ब्लॉग BasGuide.com पर आकर सब कुछ फ्री मे हासिल कर सकते हैं। हम लोगो ने आपको अपनी पिछली पोस्ट में CEO Full Form In Hindi के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में दी थी और हम आशा करते हैं कि यह जानकारी आपको अच्छी ज़रूर लगी होगी तो अगर आप लोगो को CEO शब्द की जानकारी नहीं है तो उसे अभी जाकर के पढे। तो चलिए शुरू करते हैं और Mahatma Gandhi Biography In Hindi को देख लेते हैं।

Mahatma Gandhi Biography In Hindi

Mahatma Gandhi Biography In Hindi

नाममोहनदास करमचन्द गांधी
पीता का नामकरमचन्द गांधी
जन्म02 October 1869
म्रत्यु30 जनवरी 1948
म्रत्यु का कारणहत्या
म्रत्यु का स्थाननई दिल्ली
राष्ट्रीयताभारतीय
दूसरे नामराष्ट्रपिता, महात्मा, बापू और गांधीजी

आज से लगभग 100-150 साल पहले हम लोग अंग्रेज़ों के गुलाम हुआ करते थे और वह लोग हम भारतीयों पर खूब अत्याचार किया करते थे और हम लोगो की दुर्दशा जानवरों से खराब होती है क्योकि वह लोग हम पर कुछ ज़्यादा ही अत्याचार करते थे। फिर 1869 को एक महापुरुष जिसे हम लोग महात्मा गांधी के नाम से जानते हैं उनका जन्म हुआ वह एक बहुत ही सामान्य बालक थे और वह अहिंसा, सफाई, भेदभाव से बहुत खुश होते हैं और जो आदमी इसके विपरीत होता था वह उससे नफरत करते हैं। गांधी जी की वजह से ही आज हम लोग इस तरह से आजाद है वर्ना आप लोग सोच भी नहीं सकते कि हम लोगों की आज क्या दुर्दशा होती अगर गाँधी जी ने हम लोगो को अंग्रेज़ों से आजाद न किया होता। महात्मा गांधी को Father Of Nation भी कहा जाता है। Mahatma Gandhi Biography In Hindi

महात्मा गांधी की जीवनी – Mahatma Gandhi Biography In Hindi

महात्मा गांधी का जन्म 02 October 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक शहर मे एक साधारण से परिवार के अंदर हुआ था। इनका पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गांधी था और इनके पिता का नाम करमचन्द गांधी, इनकी माता का नाम पुतली बाई था। आपको बता देना चाहता हूं कि गांधी जी के पिता की पूरी चार बीवियां थी और शुरु के 2 बीवियां जल्दी ही इस संसार से चल बसी थी जिस वजह से उन्होने बाद में 2 और बीवियों से शादी कर ली थी। महात्मा गांधी जी 4 वे नंबर की बीवी के बच्चे थे। Mahatma Gandhi Biography In Hindi

वह अपने भाई बहनों मे चौथे नंबर पर आते थे। गांधी जी का बचपन का मिज़ाज काफी शर्मिला था वह किसी से न बात किया करते थे और न ही किसी मे दिलचस्पी रखते हैं और अगर कभी ऐसी स्थिति आजाए कि उन्हे अपनी बात किसी से करनी हो तो उनकी हालत एक दम खराब हो जाती थी।

जब गाँधी जी 9 साल की उम्र अवस्था में थे तो वह राजकोट के एक स्कूल में जाया करते थे और उन्होने मात्र 11 साल की उम्र में ही अपनी High School पूरी कर ली थी। उन्होने वहा पर Arithmetic, History और Gujarati Language सीखते थे। यहा पर देखने को मिला कि गांधी जी पढ़ने में तो ठीक थे लेकिन Sport जैसी चीज़ों में वह बहुत पीछे ही थे क्योकि वह बहुत अधिक शर्माते थे। फिर 13 साल की उम्र में ही Gandhi जी की शादी उनसे एक साल बड़ी लड़की से कर दी गई थी।

शादी होने के बाद गांधी जी अपनी Wife के साथ नहीं रहा करते थे क्योकि उनका मानना था कि 13 साल की उम्र में कोई शादी नहीं हो सकती बल्कि यह शादी तो सिर्फ नए कपड़े पहनना, खाना, आदि के लिए की गई थी लेकिन जैसे – जैसे गाँधी जी बड़े होते चले वैसे – 2 उन दोनों के बीच में प्यार होना शुरू हो गया था और जब गाँधी जी 18 साल की उम्र में थे तो उनकी बीवी ने उनके पहले बच्चे को जन्म दिया।

लेकिन उनकी बदकिस्मती की कुछ दिन बाद ही उनके बच्चे की म्रत्यु हो गई थी और इस ही साल गाँधी जी ने Ahmedabad से अपनी Graduation पूरी की थी। इसके बाद Gandhi जी को यह सलाह मिली कि वह विदेश में जाकर के अपनी Law की ग्रैजुएशन पूरी करे और इस ही बीच उनके दूसरे बेटे का जन्म भी हुआ जिसका नाम हीरा लाल था। जब गाँधी जी विदेश जाकर अपनी Graduation पूरा करने के बारे में सोच रहे थे तो उनकी बीवी नहीं चाहती थी कि वह अपने बीवी बच्चों को छोड़कर विदेश जाए लेकिन गांधी जी ने तो अब पूरा मन बना लिया था कि उन्हे विदेश जाकर ही अपनी शिक्षा पूरी करनी है। Mahatma Gandhi Biography In Hindi

लेकिन England जाते टाईम गांधी जी ने अपनी माँ से वादा किया कि वह कभी Alcohol नहीं करेंगे, बीडी सिगरेट नहीं पीएगे और न ही मुर्गे जैसी चीज़ खाए गे। इसके साथ ही सन 1888 मे गाँधी जी अपना परिवार छोड़कर विदेश चले गए अपनी Graduation पूरी करने के लिए। इसके बाद वह England मे अपनी Graduation पूरी करने लगे और उनके अंदर जो कमी थी कि वह किसी से बात नहीं करते थे वह भी उन्होने वहा पर सही कि और इस बीच में गांधी जी की माँ भी इस संसार से चल बसी।

लेकिन इसके बारे में किसी ने भी गांधी जी को नहीं बताया था और फिर जब सन 1891 को गांधी जी अपनी पढ़ाई पूरी कर के भारत लोटे तो उन्हें पता चला कि उनकी माँ की म्रत्यु हो चुकी थी और फिर गाँधी जी एक दम से टूट चुके थे। फिर 1893 को गांधी जी को South Africa से जज बनने के लिए Proposal आया और उन्होने उसे Accept कर लिया।

एक बार जब गांधी जी जब कोर्ट मे अपने Case के लिए जा रहे थे तो वह Train मे First क्लास मे सफर कर रहे थे जिसमे अंग्रेज़ भी शामिल थे क्योकि उस टाईम अफ्रीका पर भी अंग्रेजों का कब्ज़ा था और यह लोग छुआ छूत, काला गोरा पर बहुत विश्वास रखते थे। इसके बाद वहां पर कुछ अंग्रेज़ आए और उन्होने गांधी जी से बोला कि उन्हे Third Class मे सफर करना चाहिए लेकिन गाँधी जी ने उन सभी को मना कर दिया क्योकि उनके पास First Class की टिकिट थी लेकिन उन अंग्रेज़ों ने गांधी जी की एक न सुनी और उन्हे खूब मारा और बीच Station पर ही उतार कर फेक दिया। Mahatma Gandhi Biography In Hindi

यह बात गांधी जी के दिल पर जा लगी और यह ही उनकी लाइफ का सबसे बड़ा मूवमेंट था फिर Gandhi जी ने ठान लिया था कि हर हाल में वह भारत को अंग्रेज़ों से बाहर करके ही रहेंगे तभी वह वापिस भारत लोट आए और अंग्रेजों के खिलाफ भारत को आजाद करने के लिए बहुत सारे आंदोलन चलाए और इस बीच उन्हे कही बार जेल में बंद भी किया गया, उन्हें मारा भी गया लेकिन वह रुके नहीं और उनके यह आंदोलन सफलता लेकर आए और सन 1947 में जब World War चल रहा था तो अंग्रेज़ों ने भारत छोड़ दिया और तभी से भारत आजाद हो गया।

हम लोग खुशी ही मना रहे थे कि तभी सन 1948 में गाँधी जी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और यह भारत का महान आदमी इस संसार से विदा हो गया था। Mahatma Gandhi Biography In Hindi

आज हम लोग इतने आजाद घूमते हैं यह सिर्फ़ उन लोगो की वजह से ही हो पाया है जिन्होंने बिना अपनी जान की परवाह किए बिना हम लोगो को आजाद कराया है तो हम भारत के लोगो को कभी यह नहीं भूलना चाहिए तो आप लोग अभी इस पोस्ट को अपने दोस्तो के साथ शेयर किजिए और उन्हे भी थोड़ा इसके बारे में पढ़ने का मौका दीजिए।

उम्मीद करते हैं कि आपको Mahatma Gandhi Biography In Hindi अच्छी ज़रूर लगी होगी तो ऐसे ही मज़ेदार Biography पढ़ते रहने के लिए हमारे साथ जुड़े रहिए।

Keywords:- Mahatma Gandhi Biography In Hindi, Mahatma Gandhi Biography, Mahatma Gandhi In Hindi, Mahatma Gandhi Ke Baare Me Jaankari, Mahatma Gandhi Ka Janm, Mahatma Gandhi Ki Maut और Mahatma Gandhi Biography In Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here